दुनिया का सबसे पहला फ़ोन कौन सा था ? world’s first phone

0
92

आज के युग में स्मार्टफ़ोन सभी लोगो की जरूरत बन चुका है, और इस फ़ोन की सहायता से हम अपने किसी भी मुश्किल काम को आसान कर सकते हैं .आज के समय में न जाने कितनी’ संख्यो में स्मार्टफ़ोन बनाये और बेचे जा रहे हैं .आज स्मार्टफ़ोन की बजह से चीजे पहले से सरल और आसान हो गयी है . क्या आपको पता हैं जिस फ़ोन का उपयोग आप पूरा दिन करते हो उस फ़ोन का अबिष्कार कब हुआ और किसने किया ? इस पोस्ट में जानेगे कि दुनिया का सबसे पहला फ़ोन कौन सा था ?

स्मार्टफोन के बारे में और अधिक जानने से पहले मोबाईल फोन के बारे में जानना बेहद जरुरी हैं .वैज्ञानिको ने दुनिया को सबसे पहले सेल फोन ,फिर मोबाईल फोन दिया .लेकिन बढती जरूरतों और समय की मांग को देखते हुए स्मार्टफोन का अविष्कार किया गया .इस स्मार्टफोन के कारण ही आज सामान्य सी life smart life बन गई हैं .

कैसे बना दुनिया का सबसे पहला फोन ?

दुनिया को सबसे पहला फोन देने का श्रेय अमेरिकी वैज्ञानिक मार्टिन कूपर को दिया जाता हैं . मार्टिन कूपर को 1972 में सबसे पहले ये आयडिया आया कि क्यों न रिमोट कि तरह ही कोई ऐसी डिवाइस बनाई जाये, जिससे बात भी की जा सके .अपने इसी सपने को मार्टिन कूपर 1973 में दुनिया को पहला फोन देकर साकार किया .इस मोबाईल का वजन 2 किलोग्राम था .इसके इस्तेमाल के लिए एक बड़ी बैटरी को कंधे पर लटका कर चलना पड़ता था. इसके अलावा, एक बार चार्ज होने के बाद दुनिया के पहले मोबाइल से सिर्फ 30 मिनट तक ही बात की जा सकती थी, और इसे दोबारा चार्ज करने में 10 घंटे का समय लग जाता था.1973 में बने मोबाइल की कीमत की बात की जाए तो इसकी कीमत लगभग 2700 अमेरिकी डॉलर (2 लाख रुपए) थी.

दुनिया का सबसे पहला फ़ोन कौन सा था

दुनिया के पहले फ़ोन का नाम क्या था ?

संसार के पहले मोबाईल फ़ोन का नाम Motorola dyna TAC 8000X था. आबिस्कार के लगभग 10 साल बाद बर्ष 1983 में मोटोरोला कंपनी ने आम लोगो के लिए पहली बार मोबाईल बाजार में बिक्री के लिए लाया गया था. Motorola dyna TAC 8000X ये फ़ोन एक बार चार्ज होने के बाद केवल इससे 30 मिनट तक बात हो सकती थी. इसमें 30 मोबाईल नंबर ही save किये जा सकते थे. और उस समय इस फ़ोन का मूल्य 3995 अमेरिकी डॉलर थी. अगर बात करे भारत के हिसाब से तो (रु 295669) रखा गया था.

भारत में मोबाईल फोन कब आया ?

हालाकि दुनिया के पहले मोबाईल फोन का अविष्कार अमेरिका में हुआ था .किन्तु उसके कुछ समय बाद ही यानि 1995 में भारत में पहला मोबाईल फोन आया .भारत में सबसे पहले मोबाईल फोन का उपयोग कोलकाता में किया गया . भारत में सबसे पहले मोबाईल से पहली कॉल श्री सुखराम जी ने प.बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्योतिबसु जी को की थी .

दुनिया का पहला स्मार्टफोन कब बना ?

देश दुनिया में मोबाईल फोन का प्रयोग होने के बाद उसमे और अधिक फीचर्स की जरुरत महसूस हुई .जिसे देखते हुए वैज्ञानिको के दुवारा गैजेट डेस्क 1993 में एक नया और अनोखा गैजेट दुनिया के सामने आया | (IBM) साइमन नाम का यह फ़ोन दुनिया का पहला फ़ोन माना जाता है. इसकी कीमत 800 डॉलर थी. इसके बाद वैज्ञानिको ने फ़ोन के अंदर कई तरह के बदलाव किये. और इन्ही बदलाव की बजह से दुनिया में नई नई कम्पनियों के फ़ोन लांच हुए |

फ़ोन के फायदे,और फ़ोन क्यों जरुरी है.

  • किसी से भी बात करके,आप उनके संपर्क में रह सकते हो।
  • फ़ोन से आप कही से भी ऑनलाइन शापिंग कर सकते हो ।
  • मोबाइल फ़ोन से आप ऑनलाइन food खरीद सकते हो।
  • फ़ोन से आप किसी भी चीज को ऑनलाइन ऑडर भी कर सकते हो।
  • स्मार्ट फ़ोन से आप पूरा दिन मनोरंजन कर सकते हो।
  • फ़ोन से आप किसी को भी पैसे भेज सकते हो और मंगवा सकते हो।

फ़ोन के नुकसान क्या है?

  • फ़ोन से रेडियस निकलता है, जो हमारे शरीर को नुकसान पहुचाता है।
  • फ़ोन का ज्यादा उपयोग कुछ लोगो का समय बर्बाद करता है।
  • फ़ोन चलाने से आखो पे नंबर आ सकते है और आखो में जलन होना या दर्द होना।
  • सामाजिक जीवन पर प्रभाव पड़ता है जो जीवन में बहुत बड़ा प्रभाव डालता है।

ये भी पढ़े ——-

नोट -ये जानकारी इंटरनेट और किताबो की मद्दत से ली गई है,अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो हमारी इस पोस्ट को अपने दोस्तों को शेयर करे.धन्यबाद ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here